Thursday, 11 July 2019

Rain rain don't go away.

Dear rain, please don't go away,
For God's sake, you must stay;
With folded hands to you i pray,
There's a lot you need to wash away.

Let the snails enjoy, a longer holiday,
Let frogs teach their babies, how to capture prey;
I am okay with these dampness, and the cloudy day,
You care for all i know, so longer you must stay.

Let there be minor gaps, as entrance for sunray,
Let plants cook their dishes, in their special way;
Mother earth has high fever, says scientific survey,
I know you're a healer, you can cool down the clay.

If still you want to leave, it hurts but you may,
'God is upset with all humans', is the message you convey;
Yet i would do insist, dear rain you must stay,
Atleast for two more months, and a few more day(s).
                                         -Mugdha💕

Wednesday, 3 April 2019

HATRED!

Why should i hate you?
The reasons are infinite;
Or may be it's pure jealousy,
As in usual cases might.

We share a mutual hatred,
Not street, nor fist fight;
Yet i am mature enough,
To support you when you'r right.

This hatred is so deep,
That i can't tolerate your sight;
If you are a strory's hero,
My being villain is alright.

They say hatred is a burden,
But hating you makes me light;
when the world has gone lovecrazy,
I find hatred to be a  delight.
                                            -Mugdha💕

Thursday, 21 March 2019

मेरा जादूगर😘

एक ज़िंदगी खुशियो से भरी,
गम के बादलो पे, उड़ती एक परी;
हर आंसू जो भुला दे,
हर मुश्किल से मुझको छुड़ा दे।

इंतज़ार करती हूं में,
पर फिर भी यूं डरती हूं में;
एक अजनबी की राह में,
शायद थोड़ी सी सहमी हूँ में।

एक अनोखा चेहरा जिसका,
अनोखी जिसकी कोई एक अदा;
जिसकी मासूम नज़रो पे,
हो जाए मेरा दिल फ़िदा।

उसके साथ की ना उम्मीद है,
नहीं है कोई इंतज़ार;
बस चहती हूँ हर पल उसपे,
बरसाउँ खुशियो की बौछार।

आए जिसपे हर दम प्यार,
हो इतना प्यारा मेरा यार;
मेरे लिए खोले जो दिल के द्वार,
हो जादुई उसका मेरा प्यार।
                                          -मुग्धा💕

Friday, 15 March 2019

समन्दर अब खाली होना चाहता है।

समन्दर अब खाली होना चाहता है,
दिल खोलकर इस बार रोना चाहता है;
कई राते गुज़ारी है, इसने तारे गिनकर,
बिन ख्वाबो के एक रात सोना चाहता है।
समन्दर अब खाली होना चाहता है।।

बदनाम बहुत है खारे पानी के ख़ातिर,
हर मीठी चीज़ की क्या यही है आखिर?
दफ़्न दिल में जो है, हर राज़ खोलना चाहता है,
समन्दर अब खली होना चाहता है।

कई कहानिया पनपी है इसके आँगन,
कागज़ नाव बन यहाँ बीते कई बचपन;
अनुभव वो भी कभी अपने बोलना चाहता है,
समन्दर अब खाली होना चाहता है।

कई नैया डूबी है इसकी गहराई में,
एक बार ये खुद खलासी होना चाहता है;
सवाल उठे है कई इसके दामन पर,
एक बार, बस एक बार, ये खुद सवाली होना चाहता है।
समन्दर अब खाली होना चाहता है।
                                    

Friday, 22 February 2019

जुर्रत

एक बार फिर जुर्रत करनी है,
ख्वाबो की कहानी सच करनी है;
कोशिश सबसे अलग करनी है,
हर दिल पर हुकूमत करनी है।

जो सारे रंग दिल को भाए,
उनसे एक रंगोली भरनी है;
लाल रंग से भी गहरे किसी,
एक रंग से हथेली रंगनी है।

छूट गए सारे लफ़्ज़ों से,
एक कविता सी रचनी है;
और कहे सुने शब्दों से,
कोई कहानी भी लिखनी है।

इस दुनिया से अलग होकर के,
परिंदों से दोस्ती करनी है;
सूखे इस दुनिया के फूल में,
एक नयी सुगंध भरनी है।
                           ✍मुग्धा💕

Monday, 28 January 2019

may my soul rest in peace!

He created the worlds, I also am a creation of his;
Atleast for his sake let me live in peace.

Shattered they lie, my heart's broken piece;
God grant me a healing, so i recover in peace.

I do not lack sufferings, don't add more to this;
If you can't do some good, kindly leave me in peace.

I can't fake laughter, can't fake tears;
God bless me with some friends, so i can smile in peace.

My poems are cooked in tears,garnished with happy cheese;
God gift me those shoulders, where i can cry in peace.

In silent distant lands, between the swishing trees;
Unknown, unlamented, make me die in peace.

At last i only seek, the most beautiful bliss;
Oh god! Find me a grave, where i can rest in peace.
                                 -Mugdha💕

Thursday, 3 January 2019

कुछ कह गया है दिल।

एक एहसास छूकर गया है,
कुछ ख़ास कहकर गया है;
मीठास देकर गया है,
अल्फाज़ छीन ले गया है।

अब दिल की बातों को है सुनना,
हर ख्वाब मज़बूत है बुनना;
हर मौके को झपट के है चुनना,
हर कच्चे हिस्से को है भुनना।

मरने से पहले नहीं मरना है,
सपनों के सच से नहीं डरना है;
इन सपनों की किमत पसीना है,
मुझे आखिरी साँस तक जीना है।
                                
                                 ✍मुग्धा।